देश : चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग अपने दो दिवसीय भारत दौरे पर आज चेन्नई के प्राचीन शहर मामल्लापुरम जाएंगे, उनके स्वागत के लिए चेन्नै और ममल्लापुरम को खूबसूरती से सजाया गया हैं। इसके साथ ही राजधानी में जगह जगह पर सुरक्षाबलों को तैनात कर दिया गया हैं। पीएम मोदी और चीनी राष्ट्रपति के बीच यह दूसरी अनौपचारिक शिखर बैठक हैं, और खास बात यह हैं कि ममल्लापुरम का नाम खुद चीन ने सुझाया था, जिस पर भारत ने तुरंत अपनी सहमती जता दी। ये मुलाकात ऐसे वक्त में हुई हैं जब पाकिस्तान कश्मीर को लेकर दुनिया भर में अलग-थलग पड़ा हैं, और कश्मीर के मुद्दे को लेकर दोनों देशों के बीच हालिया बयानों के कारण असहज स्थिति पैदा हो गई हैं।

मामल्लापुरम का नाम चीन के पूर्व राजदूत झाओहुई ने सुझाया था

मीडिया में आ रही खबरों की माने तो, कहा जा रहा हैं कि 2 महीने पहले जब मोदी-शी शिखर बैठक के वेन्यू के लिए चीन में चर्चा हुई तो भारत में चीन के पूर्व राजदूत और मौजूदा उप विदेश मंत्री लु झाओहुई ने ममल्लापुरम को चुना। बताते चले की झाओहुई चीन के विद्वान शु फंचेंग के शिष्य रहे हैं और वह ममल्लापुरम के ऐतिहासिक महत्व से अच्छी तरह वाकिफ थे। उन्हें चीन के साथ इस प्राचीन नगर के ऐतिहासिक रिश्तों के बारे में जानकारी थी। उस बैठक में झाओहुई के अलावा भारत में चीन के मौजूदा राजदूत सुन वेइडोंग भी शामिल हुए थे। सूत्र ने बताया कि जब चीन ने दूसरे अनौपचारिक शिखर बैठक के वेन्यू के लिए अपनी पसंद का इजहार किया तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तुरंत हामी भर दी।

18वीं सदी में पल्लव राजा और चीन के शासक के बीच हुआ था यह सुरक्षा समझौता

समुद्र किनारे बसे भारत के इस खूबसूरत शहर और ऐतिहासिक नगर की चीन के साथ काफी पुराना रिश्ता हैं, 18वीं सदी में यहीं पर तत्कालीन पल्लव राजा और चीन के शासक के बीच सुरक्षा समझौता हुआ था। वहीं पीएम मोदी के लिए ममल्लापुरम राजनीतिक लिहाज से और भी अहम हैं क्योंकि यह तमिलनाडु में बीजेपी की योजनाओं के लिए फिट बैठता हैं।

आखिर राजनीतिक तौर पर पीएम मोदी के लिए क्यों परफेक्ट हैं ममल्लापुरम

तमिलनाडु BJP की प्राथमिकता सूची में शामिल हैं क्योंकि हालिया चुनाव में दक्षिण के इस सूबे में मोदी मैजिक काम नहीं कर सकता था। बीजेपी के राष्ट्रीय सहासचिव पी. मुरलीधर राव के मुताबिक समिट के विए तमिलनाडु का चुनाव बीजेपी के लिए भी बेहद मुफीद हैं। वह कहते हैं, ‘बीजेपी के बारे में धारणा हैं कि यह एक हिंदी पार्टी हैं। मोदी के तमिलनाडु दौरे में इजाफा से यह समझ बढ़ेगी कि सूबे हमारे लिए राजनीतिक तौर पर बहुत महत्वपूर्ण हैं।’

देखिए कितने बजे और कब होगी मुलाकात

खबरों की माने तो 2 बजे तक चीन के राष्ट्ररति शी चिनफिंग चेन्नई एयरपोर्ट पहुचेंगे और उनके पहुंचने के बाद कार्यक्रम करीब 5 बजे शुरू हो जाएगा। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग 11-12 अक्टूबर को ममल्लापुरम में होंगे।

इन मुद्दों पर हो सकती हैं अहम चर्चा

– भारत-चीन शिखर सम्मेलन के दौरान पीएम मोदी और शी के बीच कश्मीर मुद्दा उठ सकता हैं, ऐसे में पीएम मोदी शी को इसके बारे में जानकारी दे सकते हैं, क्योंकि चीन पहले ही कह चुका हैं कि कश्मीर पर भार और पाकिस्तान को शांतिपूर्ण बातचीत के माध्यम से स्थिति को हल करना चाहिए।

– भारत-चीन शिखर सम्मेलन में डोकलाम विवाद और सीमा क्षेत्रों पर शांति बनाए रखने के लिए नए दिशानिर्देशों को जारी किया जा सकता हैं।

– भारत और चीन के बीच व्यापर को लेकर डील हो सकती हैं। इसके साथ ही बीते दिनों राष्ट्रपति शी और इमरान खान की बैठक के दौरान भारत ने कई बार विरोध जाताया। ऐसे में इस सम्मेलन में दोनों के प्रतिनिधि संबंधों को मधुर बनाएंगे।

– PM मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिंनफिंग के बीच कश्मीर विवाद पर दुनिया का समर्थन पाने के बाद यह पहला अनौपचारिक शिखर वार्ता होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here