दुनिया : पेरिस- फ्रांस की राजधानी में हुई फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की बैठक में पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा हैं। FATF की बैठक में पाकिस्तान अलग-थलग पड़ गया हैं, माना जा रहा हैं कि पाक पर कड़ी कारवाई हो सकती हैं।

आतंकी फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिंग रोकने में नाकाम और आतंकि के खिलाफ कदम न उठाने को लेकर पाकिस्तान को “डार्क ग्रे” सूची में डाला जा सकता हैं।

डार्क ग्रे क्या हैं:- FATF के रूल के अनुसार “ग्रे” और “ब्लैक” सूचियों के बीच एक अनिवार्य चरण हैं, जिसे “डार्क ग्रे” कहते हैं। डार्क ग्रे मतलब हैं कि सख्त चेतावनी ताकि संबंधित देश को सुधार का एक अंतिम मौका मिल सके।

पाक को ग्रे लिस्ट में कब डाला:- FATF ने पिछले साल 2018 में पाकिस्तान को “ग्रे” लिस्ट सूची में डाला था और 27 पॉइंट पर कार्रवाई करने के लिए एक साल का वक्त दिया था। पाक को आतंकी फंडिंग, मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकी संगठनों पर रोक के उपाय करने थे।

अगर पाक “डार्क ग्रे” लिस्ट में आ जाता हैं तो उसे बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता हैं। ऐसे में पाक के लिए विश्व बैंक, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से मदद मिलनी मुश्किल हो जाएगी। FATF 18 अक्टूबर को पाकिस्तान पर अपने फैसले को अंतिम रूप देगा।

FATF मे हिस्सा ले रहे अधिकारियों का रिएक्शन:- FATF की बैठक में हिस्सा ले रहे अधिकारियों ने कहा हैं कि, अगर पाक ने जरूरी कदम नहीं उठाए तो उसे किसी देश का समर्थन नहीं मिलेगा। एक अधिकारी ने बताया कि पाक ने 27 कार्य योजना में सिर्फ 6 पर मामूली कार्रवाई की हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here