नई दिल्ली : लगता हैं आने वाले दिनों में मृत्युदंड पाए दोषी कानूनी पेचीदगियों का सहारा लेकर मौत को धता नहीं बता पाएंगे। सुप्रीम कोर्ट मृत्युदंड के मामले में पीड़ित और समाज के पहलू को ध्यान मे रख कर दिशा निर्देश जारी करने और फांसी की सजा की समय सीमा तय करने पर विचार करने को राजी हो गया हैं।

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार की अर्जी पर विचार का मन बनाते हुए नोटिस जारी किया। केन्द्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर कोर्ट से 2014 में शत्रुघन चौहान के फैसले में मृत्युदंड के बारे में तय किये गए दिशा निर्देशों में संशोधन करने की मांग की हैं।

शुक्रवार को केन्द्र सरकार की ओर से पेश सालिसिटर जनरल तुषार मेहता ने मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे की पीठ के समक्ष दिशा निर्देश जारी करने का आग्रह करते हुए कहा कि उस फैसले में कोर्ट ने दोषी के अधिकारों को केन्द्र मे रखते हुए दिशा निर्देश जारी किये थे अब पीड़ित और समाज को केन्द्र मे रखते हुए दिशा निर्देश जारी करने की जरूरत हैं।

इस पर मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि बहुत से फैसलों मे कोर्ट कानूनी व्यवस्था तय कर चुका हैं कि सजा देते समय पीड़ित का पहलू ध्यान रखा जाए। जब कानून ही यह कहता हैं तो फिर अलग से दिशा निर्देश की क्या जरूरत हैं। तब मेहता ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में शत्रुघन चौहान के केस में दिए गए फैसले मे जो दिशा निर्देश तय किये हैं।

उसके कारण मृत्युदंड के केस की प्रक्रिया में देरी होती हैं। समय की मांग को देखते हुए जघन्य अपराध के दोषियों के बारे में स्पष्ट दिशा निर्देश बहुत जरूरी हैं। कोर्ट ने दलीलें सुनने के बाद मामले पर विचार का मन बनाते हुए संबंधित पक्षों को नोटिस जारी किया। हालांकि कोर्ट ने साफ किया कि शत्रुघन चौहान मामले में जिनके पक्ष में फैसला हुआ था वे मामले प्रभावित नहीं होंगे।

दिल्ली सामूहिक दुष्कर्म कांड व अन्य मामलों में दोषी ठहराए गए फांसी की सजा पाए दोषियों के कानूनी प्रक्रिया का लाभ उठा कर मामला लटकाने की प्रवृत्ति को देखते हुए केन्द्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में यह अर्जी दाखिल की हैं। केन्द्र सरकार ने अर्जी में मांग की हैं कि कोर्ट आदेश दे कि फांसी की सजा पाए दोषियों की दया याचिका खारिज होने के बाद सात दिन के भीतर डेथ वारंट जारी कर दिया जाएगा और उसके बाद सात दिन के भीतर उन्हें फांसी दे दी जाएगी।
इस पर उनके साथी सह अभियुक्तों की पुनर्विचार याचिका, क्यूरेटिव याचिका या दया याचिका लंबित रहने का कोई असर नहीं पड़ेगा। इसके साथ ही सरकार ने शत्रुघन चौहान फैसले में फांसी के लिए तय की गई 14 दिन की समय सीमा को घटा कर 7 दिन करने का आग्रह किया हैं।
केन्द्र सरकार ने अर्जी में कहा हैं कि सुप्रीम कोर्ट ने 21 जनवरी 2014 को शत्रुघन चौहान मामले में दिये फैसले में कहा था कि दया याचिका खारिज होने के बाद अभियुक्त को 14 दिन का समय दिया जाएगा। सरकार का कहना हैं कि कोर्ट ने उस फैसले में यह भी कहा था कि फांसी की सजा पाए दोषी का मामला लटका रहना उस पर मानसिक अत्याचार हैं। कोर्ट ने वह फैसला दोषी के नजरिये से सुनाया था।
सरकार का कहना हैं कि देश में दुष्कर्म, हत्या आदि के दुर्दान्त अपराध बढ़ रहे हैं। फांसी की सजा पाए दोषी एक एक कर अर्जी दाखिल कर मामला लटकाते रहते हैं। कोर्ट को न्याय का इंतजार कर रहे अपराध के पीड़ित परिवार के बारे में भी सोचना चाहिए।
सरकार की मांग हैं कि कोर्ट आदेश दे कि पुनर्विचार याचिका खारिज होने के बाद सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय समय सीमा के ही भीतर दोषी को क्यूरेटिव याचिका दाखिल करने की इजाजत होगी। यह भी आदेश दे कि अगर दोषी दया याचिका देना चाहता हैं तो वह डेथ वारंट जारी होने के सात दिन के भीतर ही ऐसा कर सकता हैं।
सरकार की मांग हैं कि कोर्ट सभी सक्षम अथारिटी जैसे राज्य, जेल अथारिटी तथा अन्य को आदेश दे कि वे दया याचिका खारिज होने के बाद सात दिन के भीतर डेथ वारंट जारी करेंगे और उसके बात सात दिन के भीतर उन्हें फांसी दे दी जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here