सरकार गरीबों को दे सहायता राशि नहीं तो कोरोना से ज्यादा भूख से मरेंगे गरीब – शबा खान

0
142

दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क वाराणसी /चंदौली।  जब पेट भरा हो घरों में नोटों का बंडल भरा पड़ा हो तो बहुत आसान है कहना घर पर रहो क्योंकि उन्हें क्या परेशानी है। जाकर उस गरिबों से पूछें उन गरीबों से मध्यम परिवारों से जब उन्हें पता चलता है दूर से कहीं खबर आती है तब से ही उनके बुरे हालात हो जाते हैं।

अगर सब कुछ बंद हो गया तब हम क्या करेंगे। बच्चों को क्या खिलाएंगे,क्या खाएंगे,जाए तो कहां जाएं,कहां से लाएंगे,किससे मांगेंगे,बहुत तरह के सवाल उनके मन में पैदा होने लगते हैं। क्योंकि उनके पास नोटों के बंडल नहीं होते साहब। डेली कुआं खोदते हैं डेली पीते हैं। अभी ज्यादा टाइम की बात ही नहीं है कुछ महीनों पहले की बात है जो लंबे समय तक लॉकडाउन चला थाl लोगों ने फाका किए यहां तक की कई परिवारों को अपनी जान भी गंवानी पड़ीl वह लोग कोरोना से नहीं मरे थे वह लोग वह तो पापी पेट से मर गए थेl जब घर में कुछ खाने को ना हो,पास में पैसे ना हो,कोई काम ना हो,बाजार बंद हो, ऐसे में पेट कहां से मानने वाला है,कहां से भरेगा पेट,बच्चों को कहां से खिलाएंगे,बहुत आसान है बहुत आसान है लॉगडाउन लगाना और तो और सरकार ऐसे लॉकडाउन लगाती है जो बताना भी मुनासिब नहीं समझती। कभी कुछ गाइडलाइन,तो कभी कुछ गाइडलाइन,दिनों रात बदलती रहती है उसकी गाइडलाइन जिससे लोग और ज्यादा परेशान हो जा रहे हैंl सरकार को सभी वर्ग के लोगों के बारे में सोच समझकर कदम उठाना चाहिए। ऐसे हालात में जो गरीब,मध्यम परिवार हैं उनके साथ खड़े होना चाहिए। जब सब कुछ बंद है तो उसकी बिजली पानी की बिल भी माफ करनी चाहिएl जब सरकार हजारो लाखों करोड़ अंबानी अडार्नी उधोग पति का माफ कर सकती है तो इन गरीबों के बारे में भी सोचने की आवश्यकता है। सरकार को कम से कम गरिबों के खाने की व्यवस्था करनी चाहिए। इतनी भी गरीब सरकार नहीं है कि गरीबों के खाने की व्यवस्था नहीं कर सकती l सरकार आपातकालीन स्थिति में मरते लोगों को ऑक्सीजन सिलेंडर तक प्रोवाइड नहीं कर पा रही हैl जहां सवा सौ करोड़ लोगों की आबादी है चंद लोगों को सिलेंडर प्रोवाइड नहीं हो पा रहे हैं, लेकिन दिल्ली में सरकार के आलीशान महल भूल भुलैया जो लगातार बन रहा है। जिसका 2022 में टारगेट है कंप्लीट करने का जो हजारों करोड़ रुपए से बन रहे हैं। अगर सरकार गंभीरता से नहीं ले रही है इन बातों को तब इस महामारी में तो बहुत गरीब परिवार का साया और आशियाना उजड़ जायेगा। सरकार को चाहिए गंभीरता से ले इन बातों को लेl आपातकालीन में बेड, ऑक्सीजन सिलेंडर, लोगों को प्रोवाइड कराए जिससे लोगों की जान बच सके,और लॉकडाउन लगाए तो मध्यम गरीब परिवार के बारे में भी सोचे,नहीं तो भूख से मरने वालों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ने लगेगी जो श्मशान में लाश जलाने की जगह नहीं रह जाएगी। अस्पताल में मरीज को बेड की जगह नहीं है इन सब चीजों की व्यवस्था सरकार को करनी चाहिएl महीनों हो गए कोरोना को चलते पर सरकार ने अब तक कोई ठोस कदम भी नहीं उठाया,और तो और इसमें गोलमाल भी बहुत चल रहा है,कोरोना की आड़ में बहुत खेल हो रहा है,बेहिसाब लूटमार,महंगी दवाएं ,बहुत कुछ सोशल मीडिया पर देखने को मिल रहा है इन सब चीजों पर सरकार को लगाम लगाने की आवश्यकता है। उक्त बातें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी निवासी शबा खान ने कही ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here