Home राज्य उत्तर-प्रदेश धर्मान्तरण पर अविलम्ब लगाम लगाये मोदी सरकार - राष्ट्र सृजन अभियान प्रमुख

धर्मान्तरण पर अविलम्ब लगाम लगाये मोदी सरकार – राष्ट्र सृजन अभियान प्रमुख

दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क ब्यूरो रिर्पोट नई दिल्ली।

राष्ट्र सृजन अभियान के संस्थापक सह राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ0 प्रदुम्न कुमार सिंहा ने कहा कि अगर इसी प्रकार हिन्दुओं का धर्मान्तरण होता रहा तो एक दिन ऐसा भी आयेगा जब ये बहुसंख्यक से अल्पसंख्यक में परिवर्तित हो जायेंगे।

Dr Pradyum kumar sinha

धर्म केवल आस्था के बारे में नहीं होता है, बल्कि मानव कल्याण के लिए उसकी क्षमता के लिए भी होता है। यही कारण है कि अपने धार्मिक विकल्पों का मूल्यांकन करने के लिए एक व्यक्ति का अधिकार मानव अधिकारों पर आधारित होना चाहिए। पिछले कुछ हफ्तों में, ऐसी कई घटनाएं हुई हैं और जाने-पहचाने चेहरों द्वारा कई कथन दिए गए हैं जो भारत की प्रसिद्ध धर्म-निरपेक्षता को जोखिम में डालते हैं। दिल्ली के सबसे बड़े चर्चों में से एक को जला दिया गया और यह इलजाम लगा कि पुलिस की कार्यवाही धीमी थी और चीजों को छिपाने का प्रयास किया जा रहा था। कुछ दिनों बाद, कुछ ही किलोमीटर दूर आगरा, उत्तर प्रदेश, में 200 मुस्लिमों को हिन्दू दक्षिणपंथी समूहों द्वारा एक ‘घरवापसी समारोह’ में वापिस हिन्दू बनाया गया।

देशभर में धर्मांतरण विरोधी कानून पारित किया जाए

इस बढ़ी हुई धार्मिक असहिष्णुता से बच्चों के मुद्दे भी नहीं बच पाएं। जैसे बस्तर, छत्तीसगढ़, में विश्व हिन्दू परिषद ने सांता क्लॉज को बच्चों को मिठाईयाँ बाँटने से रोक दिया गया क्योंकि इससे बच्चे ईसाई धर्म में परिवर्तित होने के लिए फुसलाए जा सकते हैं।धर्मांतरण पर इस पूरे विवाद का सरकारी समाधान ये था कि देशभर में धर्मांतरण विरोधी कानून पारित किया जाए। यह भारत के संविधान के आर्टिकल 25 जो सभी व्यक्तियों को अपने धर्म को खुलेआम मानने, उसपर अमल करने और उसका विस्तार करने के अधिकार की स्वतंत्रता और अंतःकरण की गारंटी देता है। उन धर्मांतरणों के बीच एक अंतर प्रस्तुत करने का प्रयास है जो व्यक्तियों को बल और दबाव के माध्यम से फुसलाकर प्रेरित किए जाते हैं। वही उन्होने कहा कि यूपी में योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा धर्मांतरण के खिलाफ 2020 में सख्त कानून बनाया गया था। इसके बावजूद भी प्रदेश में धर्मांतरण के मामलों में कमी नहीं आई. यूपी एटीएस द्वारा 1000 लोगों का धर्मपरिवर्तन के दो आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद ये मुद्दा एक बार फिर गरम हो गया है। विपक्ष जहां प्रदेश सरकार पर हमलावर है, वहीं हिंदू संगठन आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग कर रहे हैं. यूपी पुलिस और एटीएस लगातार मामले में कार्रवाई कर रही है वहीं सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

इन तमाम सारी कवायदों के बाद भी ये सवाल मुंह बाये खड़ा है कि आखिर चूक कहां हो रही है! एक बारगी ऐसा लगा कि अब धर्मांतरण के मामलों में कमी आएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कानून बनने के बाद भी बड़े स्तर पर प्रदेश में लोगों का धर्मांतरण करवाया गया। बीते सोमवार को उत्तर प्रदेश एटीएस ने दिल्ली के जामिया नगर से दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है, जो धर्मांतरण के कार्य में लिप्त पाए गए. आरोप है कि जहांगीर और उमर गौतम नाम के दो अभियुक्तों ने प्रदेश में 1,000 से ज्यादा लोगों का धर्मांतरण कराया है. धर्म परिवर्तन कराए गए लोगों में मूक-बधिर छात्र, महिलाएं, युवक और बच्चे शामिल ह। इन दोनों अभियुक्तों को गिरफ्तार करने और धर्मांतरण कराने वाले गिरोह का खुलासा करने के बाद पुलिस अपनी पीठ भले ही थपथपा रही हो, लेकिन यह पुलिस के खुफिया तंत्र की एक बड़ी विफलता भी है। इतने दिनों से लोगों का धर्मांतरण किया जा रहा था. फिर भी इसकी जानकारी तक नहीं मिली. अब इस मामले को लेकर सीएम योगी ने सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

यूपी में कब पड़ी सख्त धर्मांतरण कानून की जरूरत

दरअसल, उत्तर प्रदेश के जौनपुर जनपद के चंदवक क्षेत्र की भूलनडीह गांव में धर्मांतरण की शिकायत पर पुलिस ने प्रार्थना स्थल से 5 पादरियों को गिरफ्तार किया था. इस गांव में ये लोग गरीब और बीमार लोगों की बीमारी ठीक करने और रुपयों का लालच देकर धर्मांतरण कराने का काम कर रहे थे. इस मामले के सामने आने के बाद पुलिस ने मुख्य पादरी दुर्गा यादव सहित तीन नामजद और 268 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था. इस गांव में पैसे का प्रलोभन और नौकरी का लालच देकर 500 से ज्यादा लोगों का धर्म परिवर्तन कराया गया था। जौनपुर के इस सामूहिक धर्मांतरण के मामले के प्रकाश में आने के बाद ही उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण के खिलाफ सरकार ने सख्त कानून बनाने की शुरुआत कर दी थी. जौनपुर में आयोजित एक जनसभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने धर्मांतरण और लव जिहाद के खिलाफ कानून का ऐलान भी किया था.धर्मांतरण के मामलों पर बयान ।

धर्मांतरण को रोकने के लिए बनाया सख्त कानून भी पड़ा कमजोर

प्रदेश में धर्मांतरण के मामलों की बढ़ती संख्या के बाद उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने प्रदेश में लव जिहाद और धर्मांतरण को रोकने के लिए एक अध्यादेश को मंजूरी दी थी। इस कानून के तहत सामूहिक धर्मांतरण कराने वालों के खिलाफ सजा का प्रावधान किया गया था, लेकिन इस कानून के बाद भी धर्मांतरण के मामलों में कमी नहीं आई. उत्तर प्रदेश के बरेली, सीतापुर, मेरठ ,मुजफ्फरनगर में लव जिहाद के माध्यम से धर्मांतरण के कई मामले दर्ज किए गए। अब उत्तर प्रदेश आतंक निरोधक दस्ता ने दो व्यक्तियों की गिरफ्तारी की है, जो प्रदेश में 1000 से भी ज्यादा लोगों का धर्मांतरण करा चुके हैं। ऐसे में यही कहा जा सकता है कि सरकार ने धर्म परिवर्तन पर लगाम लगाने के लिए कानून भले ही बना दिया लेकिन इसका कार्यान्वयन सही से नहीं हो रहा है। दिल्ली के जामिया नगर से गिरफ्तार जहांगीर आलम और उमर गौतम नाम के दो अभियुक्तों की गिरफ्तारी की गई. एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया की उमर गौतम ने पूछताछ में बताया कि वह लोग पूरे प्रदेश में नेटवर्क बिछाकर धर्मांतरण कर रहे थे. अब तक उन्होंने एक हजार से ज्यादा लोगों का धर्मांतरण कराया है. इसके लिए वह जामिया नगर में इस्लामिक दावा सेंटर नाम की संस्था का संचालन कर रहे थे। श्री सिन्हा ने कहा कि आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने एटीएस द्वारा धर्मांतरण गिरोह के भंडाफोड़ के बाद अब इसके लिए जिम्मेदार अफसरों पर ही कार्रवाई की मांग की है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को इसके लिए पत्र भी लिखा है. सीएम को भेजे गए पत्र में उन्होंने कहा कि एटीएस द्वारा बताए गए तथ्यों से साफ है कि यूपी में यह काम एक लंबे समय से चल रहा था, जबकि सरकार स्वयं को इस मुद्दे पर गंभीर बताती ह। उन्होंने इस गिरोह के द्वारा पूर्व में हुए अपराधिक धर्मांतरण के संबंध में जांच कराकर उत्तरदायित्व निर्धारित किए जाने की भी मांग की है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा था कि शादी-ब्याह के लिए धर्म-परिवर्तन आवश्यक नहीं है, इसे मान्यता नहीं मिलनी चाहिए। इसके बाद योगी ने कहा था कि सरकार भी इस बारे में फैसला ले रही है और वे लव जिहाद को सख्ती से रोकेंगे. सीएम योगी ने लव जिहाद के खिलाफ सख्त कानून बनाने और अभियान चलाने का ऐलान भी किया था. उत्तर प्रदेश राज्य विधि आयोग ने 2019 में मुख्यमंत्री को इस विषय पर एक रिपोर्ट सौंपी थी, जिसको लेकर सक्रियता दिखाते हुए गृह विभाग ने इसका प्रस्ताव बनाकर विधि और न्याय विभाग को भेजा था। और आखिर में राष्ट्र सृजन अभियान के प्रमुख डाॅ प्रदुम्न कुमार सिंहा जो अन्र्तराष्ट्रीय चिन्तक व विचारक है। जिनको राष्ट्रीय व अन्र्तराष्ट्रीय स्तर पर उनके बेवाक बोलने व लिखने के लिए सम्मानित भी किया जा चुका है। राष्ट्र सृजन अभियान एक ऐसी संस्था है जो मोदी के सपनो का भारत के लिए कटिवध्द है।ने भारत सरकार से खासकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र दामोदर दास मोदी से मांग कि है कि धर्मान्तरण रोकने के लिए संसद मंे कुछ ऐसा कानून बनाया जाय जिससे उसके नाम लेने से भी लोग दहले। यही नही उन्होने विश्वास जताया कि आज हमारे पास ऐसा प्रधानमंत्री है जो किसी भी प्रकार का फैसला लेने में सक्षम है। हमे उम्मीद है कि वहाॅं तक हमारी बाते पहुॅचेगी और वे इस पर निश्चित रूप से कार्यवाही अमल में लायेंगे।

Krishna chand Srivastava Ad.http://dainiksrijan.com
Editor -आप भी है पत्रकार, कही के भी न्‍यूज देने के लिए आप मेंरे वाट्रसअप न0 9935932017 पर या फिर sai1chandauli@gmail.com, dainiksrijan@gmail.com पर समाचार ,बीडीओ आडिओ भेज सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

विधायक सुशील सिंह ने शोकाकुल परिवार को दिया सांत्वना

दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क कमालपुर‚चंदौली। सैयदराजा भाजपा विधायक सुशील सिंह ने रविवार को कस्बा निवासी 42 वर्षीय बालमकुंद रस्तोगी के निधन पर परिजनों से...

स्कार्पियो पलटी तीन घायल , मासूम को खरोच तक नही

दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क धीना,चन्दौली। कमालपुर धीना मार्ग के जलालपुर तिराहा अंधा मोड़ के पास रविवार की प्रात लगभग 10रू00 बजे सामने से...

संघ टोली का स्वागत कर प्रशिक्षण के लिए किया रवाना

बृजेश केशरी दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क नौगढ,चन्दौली़। ग्राम प्रधान प्रतिनिधि दीपक गुप्ता ने संघ टोली को तिलक लगाकर स्वागत करते हुए कहा कि युवा...

जितना भाजपा ने महिलाओं के लिए किया किसी सरकार ने नही – दर्शना सिंह

भाजपा महिला मोर्चा के कार्यक्रम में सम्मानित किये गये 71 कोरोना वाारियर्स दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क चन्दौली। भारतीय जनता पार्टी महिला...

राष्टीय एकता , अखंडता को मजबूती प्रदान करने के लिए युवाओं को आगे आना होगा- डी एम

अमृत महोत्सव के दौरान रन फार फ्रीडम में दौड़े युवा दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क चन्दौली ब्यूरो। नेहरू युवा केंद्र चन्दौली के तत्वावधान में आयोजित...