Home राज्य उत्तर-प्रदेश कहाॅ चले जाते है पर्यावरण दिवस पर लिये जाने वाले पेड़ों के...

कहाॅ चले जाते है पर्यावरण दिवस पर लिये जाने वाले पेड़ों के संरक्षण के शपथ!

सरकार खजाने का पिटारा हर वर्ष खोल देती है फिर भी दिनों दिन पेड़ो की संख्या में आ रही गिरावट

के सी श्रीवास्तव एड0
दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क
चंदौली ब्यूरो। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर गोष्ठी व पौधरोपण करके वक्ताओं द्रारा धरा पर हरियाली मे बढोत्तरी होते रहने का सार्थक प्रयास का दंभ तो भरा जाता है। फिर एक वर्ष तक इसकी वकालत भी करने से परहेज होना शुरू हो जाता है।जबकि सरकार ग्रीन और क्लीन देश व प्रदेश बनाए जाने के लिए भारी भरकम धन ब्यय करने में राजकीय खजाने का पिटारा हर वर्ष खोल देती है फिर भी दिनों दिन पेड़ो की संख्या में गिरावट आती जा रही है।

सरकारी कई विभागों अर्ध सरकारी संस्थाओं द्रारा भी हर वर्ष सड़कों के किनारे सार्वजनिक स्थानों पर भी पौधरोपण किया व कराया जाता है।जिसमें वक्ता के रूप मे मौजूद विभागीय जिम्मेदारानो व जनप्रतिनिधियों के वक्तब्य से लगता है कि शुद्ध वातावरण मे लोग जन जीवन ब्यतीत करते रहेंगे अब आक्सीजन खरीदने की नौबत भी नहीं आएगी।और पेड़ से मिलने वाले काफी फायदो का भी गुरगान किया जाता है।साथ ही शपथ भी लिया जाता है कि हम अपने जीवन में कम से कम दो पौधे अवश्य रोपित कर उसका संरक्षण करेंगे और अपने परिवार के प्रत्येक सदस्यों के नाम भी दो पौधरोपण कराऊंगा।तथा दूसरों को भी प्रेरित किया जाएगा।सब कुछ बात से ही होता है।फिर विश्व पर्यावरण दिवस की सार्थकता उद्देश्यों से भटक जाना लाजिमी है। वही जब दैनिक सृजन नेशनल न्यूजवर्क से पर्यावरण विद परशुराम सिंह व राष्ट्र सृजन अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा0 पी के सिन्हा से बात हुई तो इन द्वय विभूतियों ने कहा कि हमें आज पर्यावरण दिवस पर यह शपथ वास्तविक रूप में लेनी होगी कि प्रत्येक परिवार वर्ष भर में कम से कम दस पेड़ लगाये व अपने बच्चों के जन्म दिन व मैरिज युनिवर्सरी पर भी पौधरोपड़ अवश्य करे। यही नही उन्हे लगाने के बाद उनकी देखभाल भी बच्चों की तरह से करे। तभी हमारी सार्थकता पूरी होगी। वही उन्होने कहा कि कोविड काल के दौरान लोगो ने आक्सीजन के लिए तड़पते लोगो को देखा है अगर इससे भी नही सीखे तो आगे भविष्य में पछताने के लिए कुछ नही बचेगा। जिस प्रकार पानी बोतल में बन्द कर बिक रहा है वही हाल लोगो को आक्सीजन का होगा।

महान ब्यक्तिओ के जन्मदिवस पर पौध रोपण ग्राम पंचायतों से पौधरोपण पी डब्ल्यू डी व विभिन्न अर्धसरकारी संस्थाओं से पौधरोपण तो करके फोटो खिंचवाने की होड़ मची रहती है।और आयोजन के बाद ही पौधों की उल्टी गिनती शुरू हो जाती है।काशी वन्य जीव प्रभाग रामनगर के नौगढ चकिया चंद्रप्रभा जयमोहनी मझगाई वन रेंजों का हाल देखा जाय तो पुराने प्राकृतिक पेड़ लगभग विलुप्तता के कगार पर है।आरक्षित वन भूमि के भू भाग मे हर वर्ष लाखों पेड़ भी रोपित होते हैं।जिसका संरक्षण किए जाने का भी बाकायदा प्रावधान है।फिर भी जंगलों मे रोपित पौधे नाकाफी ही पेड़ की शक्ल मे मौजूद है।जबकि हर वर्ष वन विभाग रोपित पौधों की सफलता प्रतिशत कागजो मे मानक के अनुरूप दर्शाता है। केवल इससे ही काम चलने वाला नही है । धरातल पर पेड़ो को दिखाई देना चाहिए।

Krishna chand Srivastava Ad.http://dainiksrijan.com
Editor -आप भी है पत्रकार, कही के भी न्‍यूज देने के लिए आप मेंरे वाट्रसअप न0 9935932017 पर या फिर sai1chandauli@gmail.com, dainiksrijan@gmail.com पर समाचार ,बीडीओ आडिओ भेज सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

लापता वार्डब्वाय के 5 दिनों बाद भी नही मिला सुराग

बृजेश केशरी दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क नौगढ़,चंदौली। होप हास्पिटल वाराणसी मंे वार्डब्वाय पद पर कार्य करने वाला भयभंजन यादव को लापता होने के...

चंदौली के लाल सीआरपीएफ जवान अनूप सिंह को मिला वीरता मेडल

दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क चंदौली। जिले में जांबाज जवानों की कमी नहीं है। पुलवामा में शहीद हुए अवधेश यादव के गांव बहादुरपुर के...

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने जोगेश्वरनाथ मंदिर पर श्रावण मास संबंधी ब्यवस्था का किया स्थलीय निरीक्षण

दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क चकिया,चंदौली। श्रावण मास प्रारम्भ होने की पूर्व संध्या पर ब्यवस्था का मुवाइना करने के लिए उपजिलाधिकारी / ज्वाइंट मजिस्ट्रेट...

रक्तदान शरीर से अतिरिक्त आयरन निकालने का बेहतरीन तरीका- रक्त परिवार

चकिया में रक्त परिवार की तरफ से आयोजित शिविर में 50 लोगो ने किया रक्तदान दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क चकिया, चंदौली । चकिया नगर...

27वाँ अन्तरराष्ट्रीय मगही कवि सम्मेलन का आयोजन25 को

दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क नई दिल्ली। मगही परिषद् के तत्वावधान में अन्तरराष्ट्रीय मगही चौपाल के 27वाँ अन्तरराष्ट्रीय मगही कवि सम्मेलन का आयोजन दिनांक...