क्रांतिकारी बाबू रामविलास सिंह की 26 वी पुण्यतिथि के अवसर राष्ट्र सृजन अभियान ने किया उनके श्री चरणों में शत शत वंदन

0
228

सारा लहू बदन का , वसुधा को पिला दिया
बाबू रामविलास ने अपने फर्ज को, पूरा निभा दिया ।
राष्ट्र सृजन अभियान के स्वप्नद्रष्टा, महान स्वतंत्रता सेनानी, समाजसेवी, क्रांतिकारी बाबू रामविलास सिंह की 26 वी पुण्यतिथि के अवसर पर बेगूसराय राष्ट्र सृजन अभियान उनके श्री चरणों में शत शत वंदन, शत-शत नमन करता है।

बाबू रामविलास सिंह ने हर क्रांतिकारी कार्य ओजस्वी तरीके से पूरा किया। इनके पीछे के कारवां को देखकर ब्रिटिश हुकूमत भी बार-बार यह सोचने को मजबूर हो जाता था कि गांधी का यह दूसरा रूप हमारी शासन के खिलाफ कैसे जनसंग्रह को इकट्ठा कर रहा है । रामविलास बाबू के जीवन का सबसे अहम किरदार जो आज के युवाओं के लिए हमारे लिए प्रेरणा स्रोत है, वह यह है कि उन्होंने तत्कालीन गया जिले के सचिवालय से ब्रिटिश हुकूमत का यूनियन जैक उतार लिया । गोलियां चलती रही इनके एक साथ शहीद हुए, गोलियां इन्हें भी लगी लेकिन भारत मां के सच्चे लाल ने वह कर दिखाया जिसे ठाना था ।
आजादी के बाद बाबू रामविलास सिंह भारतीय किसानों के प्रति, भारत के युवाओं के प्रति काफी संवेदनशील दिखे। किसानों को अच्छी उपज मिले, किसानों के पैदावार का मुआवजा मिले, किसानों को सुविधा मिले और युवाओं को अच्छी शिक्षा मिले उसके लिए आदरणीय रामविलास बाबू ने जो सपना देखा, उसे पूरा करने के लिए जीवन पर्यंत तत्पर दिखे। वैसे महान स्वतंत्रता सेनानी की 26 वी पुण्यतिथि आज हम लोग 7 सितंबर को मना रहे हैं। इन्होंने अपने जीवन के 100 बसंत देखे, ऐसे महान विभूति का महाप्रयाण 7 सितंबर 1994 को हुआ और ये ब्रह्मलीन हो गए। अतः ऐसे महापुरुष के श्री चरणों में आज पुष्प अर्पित कर, इनके उत्कृष्ट कार्यों को याद कर हम गौरवान्वित हो रहे हैं । हमलोग को इनके बताए मार्ग पर, इनके बताए आदर्शो पर चलकर, भारत के विश्व गुरु बनने का भी सपना साकार करना होगा।

जय हिंद, जय भारत , वंदे मातरम ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here