२०२० के आखिरी अंतरराष्ट्रीय मगही चौपाल-१५ का आगाज ,रहा काबिले तारीफ

0
136

दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय मगही चौपाल-१५ ,विश्व मगही परिषद् नई दिल्ली के तरफ से पन्द्रहवां वेबिनार जेकरा मे नेउतल सभे वक्तागण के विश्व मगही परिषद् दने से आदर भाव के स्वागत करल गेल रविवार के शाम चार बजे से छः बजे तक| विषय हल (मगध , मगही अउर जनगणना 2021 ) मगही लोक भाषा के सम्मान दियावे लागी आउ आठवीं अनुसूची में शामिल करे लागी सरकार से गुहार लगाबल गेल |

चलचित्र (विधना नाच नचाबे )के डाइरेक्टर प्रभात वर्मा जी बोललन की मगही भाषा के घुंघा मे छिपाबे के बजाय ओकरा जे जहाँ मगही भाषी लोग हथ वहाँ जनगणना में भाषा मे भाषा मगही भाषा ही भरल जाय । ताकि इ पता चले कि मगही भाषा के क्षेत्र विस्तार केतना आउ कहाँ तक हे | कार्यक्रम के शुरुआत सरस्वती वन्दना राजकुमार जी से होयल । वही दिलीप जी स्वागत वक्तव्य के साथ अपन सुझाब प्रस्तुत कयलन कि जनगणना के माध्यम से कइसे भाषा के विस्तार होबत ।सुप्रीम कोर्ट के वकील निरक कुमार भी अपन विचार रखलन । बावु लाल मधुकर जी अपन बात से सुझाव देलन कि2021 के जनगणना के माध्यIम से सरकार तक भाषा के विकाश विस्तार देखाबल जाय आउ आठवीं अनुसूचि में शामिल करल जाय ।शिवेन्द्र नारायण जी बोललन कि सबा करोड़ लोग मगही भाषी लोग हथ । मगही माय के सम्मान दियाबे लागी जे भी कसर हे उ 2021 में जनगणना में उ कसर पुरा करल जाय इ समस्त मगध भाषी से निहोरा हे। जेकरा में मगध के मगही भाषा के दर्जा दियाबे लागी जनगणना जे घर – घर जा के होवत जे फार्म भरल जायत ओकरा में भाषा में मगही भाषा ही लिखल जाय । एकरा पर विस्तार से चर्चा करल गेल । मगही के विद्वतजन के माध्यम से | विनय कुमार विकल जी मगही लोक गीत से सराबोर कर के श्रोता से वक्ता तक झुमौलन । वही मनोज कुमार ‘कमल ‘ जी बोललन कि शिक्षक होबे के नाते हमरा इ अनुभव हे कि लोग बोल हथ मगही आउ फार्म में हिन्दी लिखऽ हथ जे अशोभनीय हे | अगर मगही बोलऽ हथ तो मगही लिखथ भी इ हम समस्त मगध भाषी लोग से निहोरा करऽ ही ।अध्यक्षता विश्व मगही परिषद् के अध्यक्ष डॉ० भरत सिंह , सचिव प्रो० नागेन्द्र नारायण ,प्रदेश अध्यक्ष कमलेश शर्मा के उपस्थति में करल गेल। एकरा में नीरज कुमार अनील कुमार (अमेरिका से ) बीर बहादुर महतो (नेपाल से ) , डॉ० ओम प्रकाश जमुआर , संतोषकुमार (दुबई से ), अम्बुज शर्मा , अपन – अपन मत रखलन कि भाषा के विकाश आउ लोक भाषा के कईसे 2021 मे जनगणना के माध्यम से प्रोत्साहन मिलत ।मंच सचालन और स्वागत वक्त्य प्रो नागेंद्र नारायण ने किया ,और विश्व मगही परिषद् के द्वारा के किये जाये कार्यों का उल्लेख किया

प्रो नारायण ने कहा की मगही चौपाल , मगही कवी सम्मलेन ,मगही सुर संगम और मगही संवाद इत्यादि आगामी कार्यों के बारे में बताये। 
समस्त मगह के मगहियन से निहोरा हे कि भाषा के उत्थान लागी आगे बढल जाय । 2021 के जनगणना में इ सहयोग सभे मगध के मगही भाषी लोग के देखावे के हे | जब तक लोग जागतन नञ् तब तक लोक भाषा के उत्थान न होवत । आज के सबन वक्ता लोगन जे भी अपन अपन मत रखलन जनगणना के माध्यम से भाषा के विकाश लागी उ सराहनीय आउ शोभनीय हे | एकरा लागी समस्त मगह के मगहियन से निहोरा हे कि एकरा लागी नतमस्तक होके अपन भाषा के सम्मान देहुँ ,मगही लिखऽ , मगही बोलऽ ,मगही में चिट्ठी ,कार्यालय में निवेदन लिखहुँ । दुन्हु हाथ जोड़ के आग्रह करऽ हे विश्व मगही परिषद् अब समय आ गेल हे सुतल निन्द से जागे के |

जागऽ मगध
जागऽ मगध भाषी लोग |
।हम मगही जान मिल के कुछ काम कर ।
।मगही भाषा के जग में उथान कर ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here