Home एजुकेशन भारत सरकार की नई शिक्षा नीति देश के छात्र युवाओं के लिये...

भारत सरकार की नई शिक्षा नीति देश के छात्र युवाओं के लिये हितकर- डॉ पीके सिन्हा

नई दिल्ली।राष्ट्र सृजन अभियान के संस्थापक सह राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ पी के सिन्हा ने कहा कि भारत सरकार द्वारा बुधवार दिनांक 29 जुलाई 2020 को नई शिक्षा नीति लागू की गई । उससे आने वाली युवा पीढ़ी को न सिर्फ गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिलेगी बल्कि रोजगार का भी सृजन होगा। क्योंकि इसमें स्कूल के आरंभिक शिक्षा में व्यवसायिक शिक्षा और कौशल विकास पर जोर दिया गया है।

डॉक्टर सिन्हा ने बताया कि शिक्षा प्राप्त करने का अंतिम उद्देश्य आखिरकार रोजगार हासिल करना ही होता है । सिर्फ सर्टिफिकेट, डिप्लोमा, डिग्री से रोजगार प्राप्त नहीं किया जा सकता । इसलिए कक्षा 6 से रोजगार परक नई शिक्षा नीति को अमल में लाया गया है। नई शिक्षा नीति की सबसे बड़ी खूबी यह है कि इसमें प्राथमिक शिक्षा से उच्च शिक्षा की गुणवत्ता सुनिश्चित करने पर सारा ध्यान केंद्रित किया गया है। यह शिक्षा नीति सकारात्मक दिशा में उठाया गया एक महत्वपूर्ण कदम है जिससे शिक्षा क्षेत्र की मौजूदा चुनौतियों से निपटा जाएगा और समाज के उज्जवल भविष्य की नींव रखी जा सकेगी। नई शिक्षा नीति में करोड़ों छात्रों एवं अभिभावकों के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी यह है कि 10वीं एवं 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को आसान बनाने की घोषणा की गई है, बोर्ड परीक्षाओं को लेकर छात्र परेशान होते हैं ज्यादा अंक लाने के चक्कर में छात्र कोचिंग एवं निजी शिक्षण संस्थानों में दाखिला लेकर फस जाते हैं। डॉक्टर सिन्हा ने बताया नई शिक्षा नीति से छात्र एवं अभिभावकों को जटिल परेशानी से मुक्ति मिल सकती है। इसमें बोर्ड परीक्षाओं पर दबाव कम रहेगा एवं बोर्ड परीक्षाओं में छात्र की वास्तविक प्रतिभा उनकी मेघा को परखा जाएगा।

नई शिक्षा नीति में उच्च शिक्षा में बड़े बदलाव किए गए हैं जैसे यूजीसी, एआईसीटीई, एनसीटीई की जगह एक नियामक होगा। ग्रेजुएशन में 3 साल के बाद छात्र को एग्जिट होने की सुविधा मिलेगी। एमफिल को खत्म किया जाएगा, पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स में 1 साल के बाद पढ़ाई छोड़ने का विकल्प होगा । नेशनल मेंटरिंग प्लान के जरिए इस चीज में काफी उन्नयन किया जाएगा । नई व्यवस्था में 1 साल पर सर्टिफिकेट, 2 साल पर डिप्लोमा तथा 3 साल के बाद डिग्री मिलेगी। भारत में सभी वैज्ञानिक और सामाजिक अनुसंधान के लिए नेशनल रिसर्च फाउंडेशन बनेगा। डॉ सिन्हा ने बताया कि नई शिक्षा नीति भारत के प्रतिभावान छात्र युवाओं को उज्जवल भविष्य देगा साथ ही भारत विश्व गुरु बनने की ओर भी अग्रसर होगा ।

Krishna chand Srivastavahttp://Dainik%20drijan%20.com
मै के सी श्रीवास्तव एड0 पिछले 20 ,22 वर्षो से प्रिन्ट मिडीया के क्षेत्र में विभिन्न्न जिला ब्‍यूरो व मान्‍यता प्राप्‍त जिला संवाददाता के रूप में कार्य करता आ रहा हॅू आज भी जौनपुर से प्रकाशित हिन्‍दी दैनिक तरूण मित्र में चंदौली जिले के ब्‍यूरो चीफ के रूप में कार्यरत हूॅा । साथ ही साथ इसके अब आप के बीच सोशल साइड पर दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क के माध्यम से भी आप की खबरों को नित नया आयाम देने के लिए तत्पर हूॅ । जिले से ब्‍यूरो चीफ व संवााददाताओं की आवश्‍यकता हैा खबरों व विज्ञापन को हमारे वाट्सअप न0 9935932017 पर भेज सकते है।हर जगह की खबरो के लिए वहा से सम्ब‍धित रिर्पोटर ही जिम्‍मेदार होंगे , अगर आप पत्रकारिता से जुडना चाहते है तो भी हमसे सम्‍पर्क करें ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

रात भर पुलिस करती रही गस्त ओवरलोड वाहनों को पास कराने के लिए अवांछनीय तत्वों ने पुल से उखाड़ा गाटर

दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क शहाबगंज से योगेश कुमार कि रिपोर्ट शहाबगंज,चंदौली। स्थानीय थाना से दो सौ मीटर पर स्थित कर्मनाशा नदी पुल जर्जर होने पर...

चंद्र भानु गुप्ता कृषि स्नातकोत्तर महाविद्यालय ने प्रदर्शनी लगाकर बताएं खेती किसानी के गुण

लखनऊ विश्वविद्यालय लखनऊ का  श ताब्दी समारोह 2020 डॉ एस के सिंह   दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय लखनऊ में विश्वविद्यालय के शताब्दी पूर्ण...

देर रात हुई जमकर बारिश से किसानों में छाई मायूसी बर्बाद हुई धान की फसल

दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क तरूण भागर्व  कि रिपोर्ट चकिया,चंदौली। चकिया क्षेत्र में बृहस्पतिवार की रात को हुई जोरदार बारिश से धान की फसल की कटाई...

दो दिन के लिए रहेगा बिजली का महाकैम्प

दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क आफताब आलम कि रिपोर्ट पीडीडीयू नगर चन्दौली। उपभोक्ताओं से विद्युत बिल का भुगतान करने की अपील पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर में...

छठ पूजा की तैयारी,बाजारों से लेकर नदी के तट, तक रौनक नजर आयी

दैनिक सृजन नेशनल न्यूज नेटवर्क शुभम कि रिपोर्ट शहाबगज,चंदौली। शुक्रवार को ब्लाक से बाजारों तक, छठ लोकआस्था का महापर्व ,एक ही दिन के होने के कारण,...