वाराणसीअयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पूजन को लेकर पूरे देश में उत्साह है। धर्म नगरी काशी में कुछ अलग तरीके से ही खुशी व्यक्त की जा रही है। मुस्लिम महिला फाउण्डेशन एवं विशाल भारत संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में सुभाष भवन, इन्द्रेश नगर, लमही में हिन्दू- मुस्लिम महिलाएं मिलकर हनुमान चालीसा फेम नाजनीन अंसारी के नेतृत्व में रामचरितमानस का पाठ कर रही हैं। वहीं महिलाएं स्वरचित भजन भी गा रही हैं। वहींं राम मंदिर बनने से मुस्लिम महिलाओं में भी खुशी है।

काशी की मुस्लिम महिलाओं का मानना है कि वर्षों पुराना झगड़ा खत्म हो गया और अब देश में राम के नाम पर कोई फसाद नहीं होगा। रामचरितमानस का पाठ भूमि पूजन के समय तक चलेगा, उसके बाद मुस्लिम महिलाएं भगवान श्रीराम की महाआरती करेंगी। मुस्लिम महिला फाउण्डेशन की नेशनल सदर नाजनीन अंसारी ने कहा कि धर्म बदलने से पूर्वज नहीं बदलते। भगवान श्रीराम ही हमारे पूर्वज हैं, सभी उनकी संतान हैं। बाबर द्वारा 1528 में तोड़े गए राम मंदिर से हमारे पूर्वज बहुत दुखी थे। अब स्वर्ग में भी वे खुशी मनायेंगे। मंदिर बनने से हम सभी बहुत खुश हैं और उत्साह के साथ भूमिपूजन का उत्सव मनायेंगे।इस अवसर पर मुस्लिम महिला फाउण्डेशन ने भगवान श्रीराम का एक पोस्टर जारी किया जिस पर उर्दू, हिन्दी और अंग्रेजी में लिखा है भगवान श्रीराम पूरी कायनात के मालिक हैं। सभी धर्म और जातियों के लोगों को उनकी अराधना करनी चाहिए।